Tuesday, February 21, 2012

हवा

ठण्डी हवा, तेज़ हवा
काली हवा, अंग्रेज़ हवा,
तिब्बत का भूकम्प थी चीनी हवा,
कश्मीर में फिरती है असमंजस की भीनी हवा |
यहूदियों की इसरयाली सख्त हवा,
मुसलमानों का बहाती रक्त हवा,
मिस्र में प्राचीन शिल्पकारों की कृति नष्ट करती हवा,
वहीँ थोड़े पूरब के मरूस्थल में खुद शिल्पकार बनने का कष्ट करती हवा |
हिंदुकुश की पहाड़ियों में हिन्दू खुश ना रखती हवा,
मज़हब की जिद्दी आंधी में शायद, कुछ भी ना कर सकती ये हवा
वहाँ जापान में हवा समूह में फिरती है, तो बन जाती बवंडर ये हवा,
ऊपर नीचे आगे पीछे कामुक छलांगे लगा कर छोड़ जाती खण्डर ये हवा |
उत्तर-भारत के योगी बाबा के श्वास की हवा,
दक्षिण के भोगी बाबा के अन्धविश्वास की हवा,
देश वासियों की अन्ना में क्षण-भर के विश्वास की हवा,
बहती है अध्यात्मिक प्रदूषण की बकवास की हवा |
वक़्त की रफ़्तार समझ आती है, हवा की नहीं
रूकती नहीं है ये हवा,
थकती नहीं है ये हवा,
दिखती नहीं है ये हवा,
और हाँ, मनुष्य की तरह बिकती नहीं है ये हवा!

22 comments:

  1. Ayushmann-- I am a great fan of ur anchoring n now poems too... Best of its kind.. !! Awesome!!

    ReplyDelete
  2. very nice anshuman .... You write too.!!!!!
    Very good ....waiting for something good like this :):):)

    ReplyDelete
  3. Hey, its unbelivable you can write, creative man, totally u changed "hava"

    ReplyDelete
  4. Kudos..
    Bahout khoob..

    ReplyDelete
  5. dude!! its superb! you are all rounder cheers \m/

    ReplyDelete
  6. Oh...My Gawwwd!! This is sooo good! |RESPECT|

    ReplyDelete
  7. I feel inspired to write after seeing ur writeup :) lol

    ReplyDelete
  8. Good Job, Khoob Naam Roshan Karo Beta..Lol ;)

    ReplyDelete
  9. nyc dude..keep it up...

    ReplyDelete
  10. क्या खूब, हवा का विश्लेषण किया है!
    बेहतरीन है..

    ReplyDelete
  11. ayushma bro you rockkkkkkk yar mulk me ab chal rahi he bas aapki hawa.....nicest...

    ReplyDelete
  12. Applause!! Brilliant! I had no idea you were such a deep person. I love the lines:

    उत्तर-भारत के योगी बाबा के श्वास की हवा,
    दक्षिण के भोगी बाबा के अन्धविश्वास की हवा,

    Could you change your background? The words are not always clearly visible. Keep writing!

    ReplyDelete
  13. PAJE baadiyaa likha hai, dil kush ho gaya, MO

    ReplyDelete
  14. wow!! Intellectual... u r an excellent thinker :) :)

    ReplyDelete
  15. Wow...Adorable !
    just luv diz poem...
    #Respect

    ReplyDelete
  16. Beautifully thought and beautifully carved! :-)
    https://wavzz.wordpress.com/(Wave thoughts)

    ReplyDelete
  17. Wow ayushman such great lines!!!ur voice, ur anchoring,ur acting nd now ur poem...am flattered. do u have any more skills?am awed..

    ReplyDelete